शुक्रवार, 2 नवंबर 2012

गाँधी का जाया है जी.........?

आजकल कुछ हमारे मीडिया के साथी कांग्रेस के मुनेदारो को लेकर कुछ ज्यादा ही परेशान है और वैसे भी हमारे पत्रकार साथी अन्ना आन्दोलन की चाटुकारता प्रणाली को अभी शायद भुला नहीं पाये है।
     मै अपने साथियों की कलम की ओजिस्वता को बड़े ही ध्यान से पड़ता हूँ , अच्छा भी लगता है कम से कम फेसबुक पर इनकी धारदार लेखनी से हमारे फेसबुक पाठक (मित्र) लाभान्तित तो हो रहे है।
में लगभग एक माह से लिखने की चेष्ठा कर रहा था पर एक तो कुछ परेशानी कुछ काम- काज का बोझ लिख नहीं पा रहा था, पर आज एक अपने बड़े भाई और लेखनी के धुरन्दर एव सच्चे सिपाही की कलम ने आज लिखने का मन बना दिया, और आज में अपने को कुछ परेशानियों से दूर कुछ हल्का भी महसूस कर रहा हूँ ,
हमारे उक्त साथी ने लिखा है कि आज कल गली-गली में कांग्रेस के होर्डिग लगाये गये है जिन पर लिखा है कि दिल्ली चलो संबोधन सोनिया गाँधी , राहुल गाँधी और मनमोहन सिंह करेगे। 
    आगे हमारे साथी ने ये भी लिखा है कि में समझ नहीं पा रहा हूँ ये बोलेगे क्या और कैसे बोलेगे, हमारे भाई की बात भी सत्य है कि सोनिया जी हिंदी जानती ही नहीं है, मनमोहन मैडम के हिसाब से बोलेगे तो राहुल तो अभी मुन्ना है,
सोनिया गाँधी टूटी हिंदी बोलती है पर अच्छा बोलती है, पर राहुल गाँधी के बारे में सुनकर कुछ अजीब लगा क्योकि हमारे ब्रज ( मथुरा ) में एक कहावत है, '' चूहे का जाया बिल ही खोदता है घास नहीं '' अगर में कुछ गलत बोल रहा हूँ तो गलती के लिए क्षमा चाहुगा।  

                                                  नरेन्द्र एम.चतुर्वेदी        






आज कल गली गली में होर्डिंग लगाए है कांग्रेस ने...
दिल्ली चलो........संबोधन सोनिया गाँधी ,राहुल गाँधी और मनमोहन सिंह...
मुझे तो ये समझ में नहीं आया की ये बोलेंगे क्या और कैसे बोलेंगे ??
सोनिया इंग्लिश पढ़ कर हिंदी बोलेगी...
मनमोहन मैडम के हिसाब से समाचार पढेंगे,,,
और राहुल,,,,,बेचारा मुन्ना...क्या बोलेगा बुढ़ापे में ??

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

समर्थक