सोमवार, 30 नवंबर 2009

सच्चे हिन्दुस्तानी की आतंकवाद पर दो राय नही : शाहरुख़ खान


नई दिल्ली। बालीवुड अभिनेता शाहरुख़ खान के मन की टीस उस वक्त पता पड़ी जब उनसे मीडिया द्वारा आतंक वाद पर उनकी राय जानी । शाहरुख़ खान ने कहा की अक्सर मुझसे यह सवाल पूछा जाता है की मेरी आतंकवाद के बारे में क्या राय है क्यूंकि मेरे आगे खान लगा है। मैं आपको बता देना चाहता हूँ की एक सच्चे हिन्दुस्तानी की आतंकवाद पर दो राय नहीं हो सकती, शान्ति के लिए आतंकवाद को ख़त्म करना ही होगा। मज़हब नही सिखाता आपस में बैर रखना ये पंक्तियाँ अब फीकी पड़ने लगी हैं , हर धर्म-मज़हब के शेतानो ने अपना धर्म बना लिया है,जिसे हम आतंकवाद के नाम से जानते हैं, हमे इसी घिनोने मज़हब को ख़त्म करना है। जब तक आतंकवाद का साया होगा तबतक यह सम्भव नहीं है। हम सब जीना चाहते हैं और शान्ति से जीना चाहते हैं।

प्रधानमंत्री नौ दिवसीय या‍त्रा के बाद घर वापस


अमेरिका तथा त्रिनिदाद और टोबेगो की अपनी नौ दिवसीय यात्रा से प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह रविवार रात स्वदेश वापस आ गए।अमेरिका की अपनी चार दिन की यात्रा में वह दस माह पुराने ओबामा प्रशासन के पहले राजकीय अतिथि बने।उन्होंने व्हाइट हाउस में ओबामा से मुलाकात की। दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय संबंधों एवं क्षेत्रीय हालात के अलावा आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन एवं आर्थिक संकट जैसी वैश्विक चुनौतियों पर विचार-विमर्श किया।यात्रा के दौरान दोनों पक्षों ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ने के लिए एक सहमति पत्र पर दस्तखत किए और द्विपक्षीय संबंधों को प्रगाढ करने के लिए नया मार्ग प्रशस्त करने का भी निर्णय किया।

रविवार, 29 नवंबर 2009

यूएनआई का इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में पदार्पण


'यूएनआई टेलीविजन' का उदघाटन : रोजाना 40 आडियो-वीडियो क्लिप उपलब्ध कराने की तैयारी : देश की प्रमुख संवाद समिति 'यूनाइटेड न्यूज आफ इंडिया' (यूएनआई) एक नई मंजिल तय करते हुए इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की दुनिया में कदम रखने जा रही है। सन 1961 में शुरू हुई यह संवाद समिति आज से 'यूएनआई टेलीविजन' नाम से एक नई सेवा शुरू कर रही है जिसका उदघाटन लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमारी करेंगी। इस मौके पर अनेक केन्द्रीय मंत्रियों तथा विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रमुखों के अलावा विभिन्न क्षेत्रों की नामी-गिरानी हस्तियां मौजूद रहेंगी। देश-विदेश में फैले अपने विशाल नेटवर्क और मंजे हुए पत्रकारों की बदौलत यूएनआई की यह नवीनतम सेवा टेलीविजन चैनलों एवं अन्य इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों को ताजे समाचारों एवं विश्लेषणों की आडियो वीडियो क्लिपिंग उपलब्ध करायेगी।

ब्रेकिंग न्यूज़ :आगरा में कूड़े के ढेर में विस्फोट से एक जान गई

आगरा। बकरीद की सुबह भीषण विस्फोट से किरावली कस्बा दहल गया। यह धमाका कूड़े के ढेर में उस समय हुआ जब एक वृद्ध और तीन मासूम सगे भाई वहां अलाव जला कर हाथ सेंक रहे थे। पुलिस चौकी के नजदीक हुआ यह धमाका इतना भीषण था कि चारों हवा में कई फुट उछल कर जमीन पर गिरे। इनमें से वृद्ध की मौत हो गई जबकि तीनों बच्चे घायल हो गए। दो किमी दूर तक इस धमाके की आवाज सुनाई दी। विस्फोट से कस्बे में कई घंटे तक सन्नाटा पसरा रहा। मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने विस्फोट स्थल से बरामद नमूने को जांच के लिए भेज दिया है। फिलहाल पुलिस इसे आतिशबाजी का धमाका मान रही है।
घटना शनिवार सुबह करीब साढ़े छह बजे की है। मुख्य बाजार में सफाई कर्मी सुल्तान रोजाना की तरह झाड़ू लगा कर पुलिस चौकी से महज 50 कदम की दूरी पर कूड़ा इकट्ठा कर चला गया। वहां से गुजरे किसी व्यक्ति ने इसमें आग लगा दी। सुबह पड़ रही ठंड से बचने के लिए जूते-चप्पल बनाने का काम करने वाला अभुआपुरा निवासी 70 वर्षीय सामंता वहां हाथ सेंकने के लिए बैठ गया। इसी दौरान पुरानी गल्ला मंडी से दूध लेने के लिए निकले चांद बाबू के तीन बेटे सुहैल , अंशू , चिंटू (6) दूधिए के इंतजार में आग के पास बैठ गए।
इसी दौरान इतना तेज धमाका हुआ कि आग में हाथ सेंक रहे बच्चों सहित सभी लोग हवा में उछले और फिर कुछ दूरी पर गिरे। इसके बाद चीखपुकार मच गई। घरों से निकलकर दौड़े लोग डरते हुए कूड़े के ढेर तक पहुंचे। पुलिस ने अलग-अलग दिशा में पड़े घायलों को तत्काल एसएन अस्पताल भेजा। गंभीर रूप से घायल वृद्ध सामंता की रास्ते में मौत हो गई। दस वर्षीय सुहैल के चेहरे और आंखों में गंभीर चोट हैं, जबकि चिंटू का एक हाथ तीन जगह से टूट गया। विस्फोट की धमक आसपास के घरों तक महसूस की गई। खिड़कियों के शीशे तक चटक गए।
विस्फोट की सूचना मिलने पर डीआईजी आदित्य मिश्रा, एसपी पश्चिमी श्री कृष्णा, एसओजी एवं एसटीएफ इंचार्ज भी टीम के साथ पहुंच गए। डीआईजी का कहना है कि धमाका आतिशबाजी का है। पूरी जांच की जा चुकी है। घायलों की मेडिकल रिपोर्ट में बम जैसे चोटों के घाव नहीं आए हैं। घटनास्थल से थोड़ी दूर पर आतिशबाजी की दुकान भी है।

शनिवार, 28 नवंबर 2009

दिल्ली मेट्रो की कमाई १ करोड़ प्रतिमाह पहुँची


दिल्ली मेट्रो ने कीर्तिमान स्थापित किया है। दिल्ली मेट्रो अब तक १ अरब लोगों को सफर कराया है और इसकी कमाई अब १ करोड़ रुपये महीने तक जा पहुँची है। इसके साथ ही दिल्ली मेट्रो का दायरा भी बढ़ा है। कभी आठ किलोमीटर का सफर तय करने वाली यह मेट्रो सेवा अब ९० किलोमीटर का सफर तय करती है और दिल्ली अब एन सी आर तक जा पहुँची है। दिल्ली मेट्रो वर्तमान में लगभग तीन लाख लोगों को रोजाना सफर तय कराती है। दिल्ली मेट्रो का दायरा अगले कुछ ही दिनों में १०० किलोमीटर से भी अधिक का सफर तय करने जा रही है। दिल्ली मेट्रो ने एन सी आर में कदम रखते ही लोगों को अपना चहेता बना लिया है और मंजिलों की दूरियां मिटा दीं है वहीं लोगों का समय भी बचाया है। दिल्ली मेट्रो का सफर जितना आराम दायक है उतना ही तेज भी है फसलों को कम करके दिल्ली मेट्रो अब ज़्यादातर लोगों की पहली पसंद बन चुकी है।

शुक्रवार, 27 नवंबर 2009

विनीता काम्टे की किताब ने खोली राकेश मरिया की पोल


२६/११ के मुंबई आतंकी हमले में शहीद हुए अशोक काम्टे की पत्नी ने मुबई आतंकी हमले में हुई लापरवाही की पोल खोल कर रख दी है। शहीद अशोक काम्टे की पत्नी विनीता काम्टे ने लिखी अपनी पुस्तक में मुंबई पोलिस के अपराध शाखा के प्रमुख राकेश मारिया पर आरोप लगाया है की श्री मरिया ने सब खुच जानते हुए भी उनके पति द्वारा दे गयी सूचनाओं की अनदेखी की और उन्हें निर्देश नही दिए। स्वर्गीय काम्टे आतंकियों से लड़ते हुए अपनी जान गँवा बैठे। पुस्तक ने अब बवाल मचा दिया है और श्री मारिया ने अब ख़ुद को फंसता देख इस्तीफे की पेशकश कर दी है। राकेश मरिया ने विनीता काम्टे से इस सम्बन्ध में सफाई देने को कहा है और सरकार से इस मामले में हस्तक्षेप करने को कहा है। सरकार भी इस मसले पर असमंजस में आगई है।

हर साल डेढ़ अरब बच्चे हिंसा का शिकार


यूनिसेफ के अनुसार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किए जा भारी प्रयासों के बाद भी दुनियाभर में हर साल 50 करोड़ से डेढ़ अरब बच्चे विभिन्न प्रकार की हिंसा का शिकार हो रहे हैं।

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) की दुनिया के बच्चों की स्थिति रिपोर्ट के विशेष संस्करण के अनुसार विभिन्न प्रकार की हिंसा और अत्याचार के शिकार इन बच्चों को भविष्य में मानसिक और शारीरिक समस्याओं से जूझना पड़ता है।

रिपोर्ट में कहा गया है-बच्चों के हितों में अत्यधिक नुकसान पहुँचाने वाली प्रथाएँ सामाजिक परंपराओं और सांस्कृतिक प्रवृत्तियों का भाग होती हैं और पीढ़ी दर पीढ़ी विद्यमान रहती हैं।

अत: केवल कानून पारित कर देना ही काफी नहीं होता है। इन्हें सतत शैक्षिक एवं जागरुकता के प्रयासों, क्षमता निर्माण, पर्याप्त संसाधनों, परस्पर सहयोग तथा बच्चों की भागीदारी का समर्थन होना चाहिए। यह विशेष रूप से तभी लागू होता है, जब बच्चों को हिंसा, दुर्व्यवहार और शोषण के बचाने की बात सामने आती है।

रिपोर्ट के अनुसार हर देश एवं समुदाय, सांस्कृतिक, सामाजिक अथवा आर्थिक समूह में बच्चे हिंसा दुर्व्यवहार शोषण, उपेक्षा और भेदभाव के शिकार होते हैं। इस प्रकार के उल्लंघन बाल अधिकारों में रूकावट पैदा करते हैं।

बाल अधिकार सम्मेलन के अनुच्छेद (19) में कहा गया है कि सभी सदस्य देशों को बच्चे की शारीरिक अथवा मानसिक हिंसा, उपेक्षा, शोषण के साथ साथ यौन दुर्व्यवहार से रक्षा के लिए उचित कानून, प्रशासनिक, सामाजिक एवं शैक्षिक उपाय करना होंगे। भले ही बच्चे की देखभाल इस दौरान अभिभावकों अथवा किसी अन्य व्यक्ति द्वारा की जा रही हो।

इस प्रकार के सुरक्षाकारी उपाय हर प्रकार से उपयुक्त और बच्चे के लिए उपयोगी होना चाहिए। रिपोर्ट में कहा गया है कि शारीरिक रूप से असमर्थ बच्चे भेदभाव और अकेलेपन के शिकार होने के साथ-साथ विशेष रूप से शारीरिक हिंसा एवं भावनात्मक तथा मौखिक दुर्व्यवहार का शिकार होते हैं, जिसके कारण बच्चों की स्कूलों में उपस्थिति भी प्रभावित होती है।

भोज के दोरान मनमोहनसिंह की सुरक्षा में सेंध


अमेरिका की यात्रा पर गए भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह की सुरक्षा में चूक का मामला सामना आया है। वॉशिंगटन में राजकीय भोज के दौरान समारोह में एक ऐसा जोड़ा घुस आया, जिसे बुलाया ही नहीं गया।

वॉशिंगटन पोस्ट के हवाले से समाचार चैनलों ने कहा कि उक्त युगल कौन था और कहाँ से आया था, इसकी जाँच अमेरिकी खुफिया एजेंसियाँ कर रही हैं। इसे लेकर बराक ओबामा प्रशासन पर भी अँगुलियाँ उठ रही हैं।

उल्लेखनीय है कि व्हाइट हाउस में मंगलवार को बराक ओबामा ने प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह को उनके प्रतिनिधिमंडल के साथ राजकीय भोज दिया था। इसमें कुल 320 मेहमान शामिल हुए थे।

सरकार और विपक्ष दोनों चिंतित : इस पूरे मामले पर विदेश राज्यमंत्री शशि थरूर, भाजपा नेता एसएस आहलूवालिया और डी. राजा समेत कई नेताओं ने गहरी चिंता व्यक्त की है। आहलूवालिया ने कहा कि इस बात की निश्चित तौर पर जाँच होना चाहिए कि ऐसा क्यों हुआ।

थरूर ने कहा कि यह मसला वाकई गंभीर है। इसके लिए कौन जिम्मेदार है, यह जाँच के बाद ही सामने आ पाएगा।
v

गुरुवार, 26 नवंबर 2009

ब्रेकिंग न्यूज़ : दिल्ली नगर निगम में करोड़ों का घोटाला


दिल्ली नगर निगम से २२ हजार से भी अधिक ऐसे लोग अब तक वेतन लेते आ रहे थे जो निगम के कर्मचारी ही नहीं थे । इन लोगों की वजह से निगम को प्रतिमाह १७ करोड़ का नुक्सान हो रहा था । दिल्ली नगर निगम के आयुक्त के अनुसार बायो मेत्रिकल हाजरी सिस्टम से यह घोटाला सामने आया है। इस मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

बुधवार, 25 नवंबर 2009

वैश्विक नेता के रूप में भारत का उदय


अमेरिकी उपराष्ट्रपति जो बिडेन ने भारत-अमेरिका परमाणु करार को दोनों देशों के आपसी संबंधों को मजबूत करने की दिशा में एक बड़ा कदम बताते हुए वैश्विक नेता के रूप में भारत के उदय को अद्भुत बताया।प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह के सम्मान में आयोजित भोज में बिडेन ने कहा कि देशों के समुदाय के बीच भारत का एक नेता के रूप में उदय अद्भुत तथा ऐतिहासिक है और हम इसका तहेदिल से स्वागत करते हैं।उन्होंने कहा कि मैं और विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन भारत-अमेरिका के रिश्तों की अहमियत समझते हैं और भारत के नेतृत्व को गर्मजोशी से स्वीकार करते हैं।एक सीनेटर के रूप में भारत-अमेरिका परमाणु करार को पारित कराने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करने वाले बिडेन ने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन और जॉर्ज डब्ल्यू बुश के बाद अब मौजूदा राष्ट्रपति बराक ओबामा भी इस पर कड़ी मेहनत कर रहे हैं। इस संबंध को मजबूत करने के लिए वह न सिर्फ दिमाग से बल्कि दिल से भी काम कर रहे हैं।उन्होंने कहा कि असैन्य परमाणु सहयोग के लिए हुआ ऐतिहासिक समझौता अमेरिका-भारत सम्बन्धों को मजबूत करने की दिशा में एक बड़ा कदम है। अब दोनों देश एक-दूसरे के पहले से ज्यादा करीब हैं। अमेरिकी उपराष्ट्रपति ने परमाणु करार के मामले में मनमोहन द्वारा दिखाई गई नेतृत्व क्षमता की भी तारीफ की।

सुखोई में कर सफर राष्ट्रपति प्रतिभा ने रचा इतिहास



राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने बुधवार को सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान से उड़ान भर कर अपने नाम एक रिकॉर्ड दर्ज करा लिया। रूस निर्मित सुखोई में 30 मिनट की उड़ान भर कर प्रतिभा ऐसा करने वाली किसी भी देश की पहली महिला राष्ट्राध्यक्ष बन गई हैं।उड़ान के सफलतापूर्वक संपन्न होने पर लोहेगाँव वायुसैनिक अड्डे पर उतरने के बाद प्रतिभा ने पायलट विंग कमांडर एस साजन से हाथ मिलाया और सुविधाजनक उड़ान के लिए उनकी सराहना की।इसके साथ ही चौहत्तर वर्षीय प्रतिभा ने किसी भी युद्धक विमान में 30 मिनट की यात्रा करने वाली सबसे उम्रदराज महिला का रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिया है। अड्डे पर उन्होंने पायलट, उच्चाधिकारियों और विमान के तकनीकी स्टॉफ के साथ फोटो खिंचवाए।प्रतिभा के साथ जाने वाले पायलट साजन के पास 3,200 घंटों की उड़ान का अनुभव है। उतरने के बाद राष्ट्रपति को विश्राम गृह ले जाया गया, जहाँ उनका चिकित्सीय परीक्षण किया गया।उड़ान भरने के पूर्व राष्ट्रपति को आपातकालीन निर्गमन प्रक्रिया और सुखोई-30 की उड़ान के विभिन्न पहलुओं के बारे में 30 स्क्वॉड्रन ‘राइनोज’ ने संक्षिप्त जानकारी दी।सुखोई में उड़ान भरने वाली प्रतिभा देश की दूसरी राष्ट्रपति हैं। इसके पहले पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने लोहेगाँव से ही इसमें उड़ान भरी थी। कलाम की 30 मिनट की उड़ान की गति सुपरसोनिक गति से थोड़ी ही कम थी।क्या है सुखोई-30 एमकेआई : अगली पीढ़ी का लड़ाकू विमान, सुखोई भारतीय वायुसेना में 1996-97 में सेवा में आया था, तब भारत ने 50 सुखोई-30 विमान रूस से खरीदे थे। इसके बाद 2000 में हुए एक समझौते के अंतर्गत हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड को 140 विमान बनाने का लाइसेंस प्राप्त हुआ था। सुखोई-30 दो सीटर, दो इंजन वाला मल्टीरोल (आक्रमण और रक्षा) वाला सुपरसोनिक जेट है, जिसकी अधिकतम गति 2.35 मेक (2500 किमी प्रति घंटा) है। यह विमान घातक 130 एमएम की जीएचएस गन तथा 8000 किलो के आयुधों से लैस है। परमाणु बम वहन करने की क्षमता वाले इस विमान में हवा से हवा, हवा से सतह पर मार करने वाली कई अत्याधुनिक और खतरनाक मिसाइलें भी लगी हैं।भारतीय परिस्थितियों के अनुसार इसमें कुछ फेरबदल भी किए गए हैं। वर्तमान में सुखोई-30 भारतीय वायुसेना की तीन स्क्वॉड्रन 20 'लाइटनिंग', 30 'रायनों' तथा 24 'हॉक्स' पुणे और बरेली एयरबेस में तैनात हैं। हाल ही में इसकी एक स्क्वॉड्रन को असम के तेजपुर में भी तैनात किए जाने की प्रकिया चल रही है।

मनमोहन के सम्मान में आयोजित भोज चर्चा का विषय


शाही शानो-शौकत वाले व्हाइट हाउस में पहले भी कई भारतीय नेताओं को दावत की मेजबानी की जा चुकी है लेकिन इस बार राजकीय सम्मान में प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह को दिए जाने वाले रात्रिभोज का आयोजन होने से पहले ही मीडिया में अभूतपूर्व कवरेज मिला है क्योंकि यह ओबामा प्रशासन में होने वाला इस तरह का पहला समारोह होगा।अमेरिकी मीडिया ने पकवानों और मेहमानों की फेहरिस्त के बारे में अटकलें लगा कर और राष्ट्रपति बराक ओबामा के भारत के बढ़ते दबदबे के प्रति दर्शाए रूख को रेखांकित कर इस आयोजन पर पूरी तरह से ध्यान केंद्रित कर दिया है।वॉशिंगटन पोस्ट’ ने खबर दी कि व्हाइट हाउस आने के करीब एक साल बाद राष्ट्रपति ओबामा और प्रथम महिला इस पहले राजकीय रात्रिभोज की मेजबानी करेंगी। साल भर में वे गर्वनरों के रात्रिभोज, विभिन्न लोगों को दिए भोज तथा असंख्य दावतों के साथ मेहमाननवाजी के अपने हुनर में इजाफा कर चुके हैं।विश्व के दो सबसे बड़े लोकतंत्र को ‘ब्लैक टाय’ में बंधने का मौका मिलेगा। अगर परंपरा बरकरार रहती है तो रात्रिभोज से कुछ ही घंटों पहले मेहमानों की सूची के विवरण का खुलासा हो जाएगा।‘वॉशिंगटन पोस्ट’ के मुताबिक, 77 वर्षीय शाकाहारी प्रधानमंत्री के लिए विभिन्न शाकाहारी पकवान रखे जाएँगे और निस्संदेह रूप से उनका पहले खुलासा किया जाएगा।स्वतंत्रता के बाद से पंडित जवाहरलाल नेहरू से लेकर लगभर हर भारतीय प्रधानमंत्री ने व्हाइट हाउस में रात्रिभोज में भाग लिया है। लेकिन सभी भोज औपचारिक राजकीय रात्रिभोज नहीं थे, जो किसी राष्ट्र या सरकार के प्रमुख के सम्मान में दिए जाते हैं।संघीय सरकार राजकीय रात्रिभोज से पहले हमेशा राजकीय यात्रा के आगमन का समारोह दिन में साउथ लॉन में आयोजन करती है।नेहरू के लिए अक्टूबर 1949 में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति हैरी ट्रूमैन ने ब्लेयर हाउस में पाँच कोर्स का रात्रिभोज दिया था क्योंकि तब व्हाइट हाउस में मरम्मत चल रही थी। भोज के लजीज पकवानों में भूनी हुई टर्की अदरक की बीयर और आड़ू का सलाद शामिल था।सोलह दिसंबर 1956 को तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति ड्वाइट डी. इजेनहोवर ने नेहरू के साथ ही उनकी पुत्री इंदिरा गाँधी के लिए रविवार का भोज दिया। इंदिरा बतौर प्रधानमंत्री 28 मार्च 1966 को लिंडन बी. जॉनसन के प्रशासन में व्हाइट हाउस आई थीं। पाँच साल बाद राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने व्हाइट हाउस के दस्तरख्वान में इंदिरा के लिए रात्रि भोज की मेजबानी की। इस दौरान महोख (फेजेंट) और मक्खन युक्त शतावर परोसा गया।इंदिरा की हत्या के एक साल बाद राजीव गाँधी के लिए रीगन ने व्हाइट हाउस में रात्रिभोज दिया। वर्ष 2000 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी और जुलाई 2005 में सिंह के सम्मान में भी समान तरह के आयोजन हुए।वाजपेयी के लिए तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की मेजबानी में साउथ लॉन में शामियाने में भव्य रात्रिभोज दिया गया था। इसमें चावल और सेम से बना सालन और लीची परोसी गई। बुश के सिंह को दिए भोज में भारतीय जायका शामिल था। मेहमानों को बासमती चावल और आम की आइसक्रीम परोसी गई।राजकीय रात्रिभोज संघीय सरकार देती है और इसकी निगरानी विदेश मंत्रालय के एक राजनयिक या राजदूत करते हैं। 19वीं शताब्दी की शुरुआत में राष्ट्रपति की कैबिनेट, कांग्रेस तथा अन्य पदाधिकारियों के सम्मान में दिए गए भोज भी राजकीय रात्रिभोज कहलाते थे।सबसे पहले 12 दिसंबर 1874 को यूलीसिस एस ग्रांट ने हवाई किंगडम के किंग डेविड कालाकुआ के सम्मान में व्हाइट हाउस में राजकीय भोज दिया था।

मंगलवार, 24 नवंबर 2009

अटलबिहारी वाजपेयी,आडवानी,मुरली मनोहर जोशी सीधे जिम्मेदार







बाबरी विध्वंस पर संसद में पेश लिब्रहान आयोग की रिपोर्ट में पूर्व प्रधानमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अटलबिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी समेत 68 लोगों को अयोध्याकांड का जिम्मेदार ठहराया गया है। दिलचस्प बात यह है कि रिपोर्ट में तत्कालीन प्रधानमंत्री पीवी नरसिंह राव को क्लीन चिट दी गई है।मीडिया रिपोर्टों में रिपोर्ट के हवाले से कहा गया है कि आयोग मानता है वाजपेयी सीधे तौर पर मस्जिद ढहाने वालों में शामिल नहीं थे, लेकिन उन्होंने घटनास्थल से दूर खड़े रहकर सांप्रदायिक उन्माद फैलाने की कोशिश की।रिपोर्ट में पूर्व संघ प्रमुख केएस सुदर्शन, विहिप नेता अशोक सिंघल, उप्र के तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याणसिंह, गिरिराज किशोर और शंकरसिंह वाघेला समेत 68 लोगों को दोषी पाया गया है। उल्लेखनीय है कि विपक्ष के आक्रामक तेवरों के बाद 'बैक फुट' पर आई सरकार ने उक्त रिपोर्ट को संसद में आज पेश कर दिया। गृहमंत्री पी. चिदंबरम ने रिपोर्ट को सदन के पटल पर रखा। केवल अंग्रेजी में प्रस्तुत रिपोर्ट पर गुरुवार को लोकसभा में बहस होगी। रिपोर्ट पेश किए जाने के दौरान दोनों सदनों में फिर हंगामा हुआ। अँग्रेजी दैनिक इंडियन एक्सप्रेस में रिपोर्ट के अंश छपने पर सोमवार को संसद में विपक्ष ने जमकर हंगामा मचाया था। भाजपा, सपा और वामदल समेत तमाम विरोधी पार्टियों ने इसे लेकर सरकार पर तीखे वार किए थे।

सोमवार, 23 नवंबर 2009

संघ वसुधैव कुटुंबकम का सबसे बड़ा पैरोकार: मोहन भगवत



राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहनराव भागवत ने देश के सम्मुख मुँह बाए खड़ी आतंकवाद एवं विदेशी खतरे जैसी समस्याओं के लिए कमजोर कानूनों को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा है कि इसके लिए मजबूत हिंदू राष्ट्र ही एकमात्र समाधान है।
पीटीआई भागवत ने लोगों को चीन के प्रति आगाह करते हुए कहा कि वे एक साथ दोस्ती और दुश्मन की राह पर चल रहा है। चीन दोस्ती का मुखौटा लगाकर भारतीय राज्यों को हड़पने का प्रयास कर रहा है। इससे उसकी नीयत का पता चलता है। ऐसे में समय की माँग है कि भारत इस देश की सीमा से लगती अपनी सीमा को सुरक्षित बनाए। चीन के इरादे नेक नहीं हैं। उसकी दिलचस्पी केवल दूसरे देशों को सामान और हथियार बेचने में हैउन्होने कहा कि पाकिस्तान आतंकवाद का निर्यात कर रहा है, जबकि बांग्लादेश आतंकवादियों की शरणस्थली बन गया है। उधर, नेपाल से बड़ी मात्रा में फर्जी नोट और मादक पदार्थों की तस्करी होती है। भारत आजादी के 62 वर्ष बाद भी इन आक्रामक पड़ोसियों की वजह से सही मायने में स्वतंत्र नहीं हो पाया है। इन समस्याओं की सबसे बड़ी वजह देश में कमजोर कानून का होना
नक्सलवाद के नाम पर देश में बढ़ रहे आतंक पर चिंता प्रकट करते हुए वामदलों को आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि महज दो वर्ष पहले ये वामदल इन नक्सलियों का समर्थन कर रहे थे और अब उन्होंने अपना गढ़ बचाने के लिए उनके खिलाफ संघर्ष की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि ऐसे में हिंदुत्व ही मजबूत राष्ट्र के निर्माण का एकमात्र रास्ता है और संघ वसुधैव कुटुंबकम का सबसे बड़ा पैरोकार है।

रविवार, 22 नवंबर 2009

शिल्पा शेट्टी प्रणय सूत्र बंधन में बंधी


बॉलीवुड बाला शिल्पा शेट्टी अपने मंगेतर भारतीय मूल के ब्रिटिश उद्योगपति राज कुंद्रा के साथ परिणय सूत्र में बंधी विवाह समारोह राज के दोस्त किरण बावा के खंडाला स्थित फार्म शनिवार को राज-शिल्पा दोनों के घर मेहंदी की रस्म निभाई गई। आयोजन में शिल्पा का परिवार और कुछ खास मिलने वाले ही शामिल हुए। उल्लेखनीय है कि यूपी बिहार लूटने वाली इस अभिनेत्री के लिए मशहूर डिजाइनर मनीष मल्होत्रा ने कपड़े डिजाइन किए हैं, वहीं राज शांतनू द्वारा तैयार लिबास पहनकर शिल्पा के घर बारात लेकर आए पारिवारिक सूत्रों के मुताबिक शादी के बाद शिल्पा राज के साथ वैंकटेश भगवान के दर्शन के लिए तिरुपति भी गयीं शिल्पा की शादी कवर करने के लिए ब्रिटेन की ख्यात पत्रिका 'हैलो' ने 50 लाख रुपए की पेशकश की थी, लेकिन शिल्पा ने इनकार कर दिया। मैगजीन की शर्त थी कि समारोह में कोई भी मेहमान मोबाइल लेकर न आए। इसके अलावा फोटोग्राफरों को भी विवाह से दूर रखा जाए। ये दोनों ही शर्तें शिल्पा को मंजूर नहीं थीं।

चुनाव आयोग ने माँगा बिग बी से जीवन इतिहास



भारत के चुनाव आयोग ने सदी के महानायक अमिताभ बच्चन से उनका इतिहास माँगा है। चुनाव आयोग हाल-फिलहाल में एक प्रदर्शनी लगाने जा रहा है। यह प्रदर्शनी चुनाव आयोग की हीरक जयंती के उपलक्ष्य में २५ जनवरी २०१० में लगाई जाएगी। इस दिन चुनाव आयोग अपनी हीरक जयंती मनाने जा रहा है।

पत्रकारों को स्वास्थ्य बीमा.......

पत्रकारों को स्वास्थ्य बीमा योजना
उत्तर प्रदेश श्रमजीवी पत्रकार संघ की एक विज्ञप्ति के अनुसार केन्द्र सरकार मान्यता प्राप्त पत्रकारों को स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ दिलाने के लिए कार्यवाही कर रही है । कल लखनऊ में प्रेस क्लब से जारी इस विज्ञप्ति में यह बताया गया है की मान्यता प्राप्त पत्रकारों को अब जल्द ही स्वास्थ्य बीमा का लाभ भी केन्द्र सरकार उपलब्ध कराने जा रही है । इस सम्बन्ध में केन्द्र सरकार का रुख गंभीर है और वह जल्दी ही पत्रकारों को स्वाथ्य बीमा योजना का लाभ देने जा रही है।

शनिवार, 21 नवंबर 2009

राम प्रकाश ने रेल दुर्घटना होने से रोकी. .......

राम प्रकाश के ज़ज्बे को सलाम ।
हाथरस जिले के साथनी करीब आठ किलोमीटर दूर गोहाना गाँव का रहने वाला किसान राम प्रकाश और उसके पुत्र बी पी शर्मा ने अपनी सूझ-बूझ का परिचय देकर एक और रेल हादसा होने से रोक लिया । यह घटना उस समय की है जब हम और आप तडके सुबह नींद में होते हैं। राम प्रकाश अपने बेटे के साथ आदतन टहलने निकला तो गाँव के पास ही रेलवे लाइन पर उसने देखा के ट्रेक के नट-बोल्ट खुले होने के कारन पटरी से आवाज़ आ रही है और साथ ही ट्रेन भी चली आ रही है। राम प्रकाश और उसका बेटा यह देख कर हतप्रद रह गए , तुरंत उन्हें कुछ सूझा और वह अपने घर से अपनी बेटी की लाल चुनरी ले आए तथा १०० मीटर की दूरी पर बाजरे की डंडी से लाल झंडी बना कर रेलवे लाइन के दोनों तरफ़ लगा दी इन्होने पास ही में कुह्च भूसा भी जला दिया और आती हुई रेल को रोकने की कोशिश की ड्राइवर औरगार्डdएख और ट्रेन रोक ली । दोनों ने जब रामप्रकाश से पुछा तो उसने ट्रेक की तरफ़ इशारा करते हुए बताया की नट-बोल्ट खुल रहे हैं । इस पर ड्राइवर और गार्ड दोनों रह सहम गए । इस तरह राम प्रकाश और उसके बेटे ने एक बड़ी रेल दुर्घटना होने से रोकी ।

सुस्वागतम

समय सापेक्ष राष्ट्रीय हिन्दी समाचार पत्र अब ब्लॉग पर उपलब्ध है। जो आपको अब डेली न्यूज़ और ब्रेकिंग न्यूज़ उपलब्ध करता रहेगा। कृपया समय सापेक्ष ब्लॉग पर विज़िट करें और ताज़ा-तरीन ख़बरों की जानकारी हासिल करें,साथ समय सापेक्ष का मासिक समाचार पत्र भी बिल्कुल मुफ्त देखें ।

प्रधान सम्पादक : नरेन्द्र एम् चतुर्वेदी ,सम्पादक शिखर आकाश, कानूनी सलाहकार :शिवकुमार तिवारी एडवोकेट ,सुप्रीम कोर्ट दिल्ली ।

समर्थक

ब्लॉग आर्काइव