शनिवार, 21 नवंबर 2009

राम प्रकाश ने रेल दुर्घटना होने से रोकी. .......

राम प्रकाश के ज़ज्बे को सलाम ।
हाथरस जिले के साथनी करीब आठ किलोमीटर दूर गोहाना गाँव का रहने वाला किसान राम प्रकाश और उसके पुत्र बी पी शर्मा ने अपनी सूझ-बूझ का परिचय देकर एक और रेल हादसा होने से रोक लिया । यह घटना उस समय की है जब हम और आप तडके सुबह नींद में होते हैं। राम प्रकाश अपने बेटे के साथ आदतन टहलने निकला तो गाँव के पास ही रेलवे लाइन पर उसने देखा के ट्रेक के नट-बोल्ट खुले होने के कारन पटरी से आवाज़ आ रही है और साथ ही ट्रेन भी चली आ रही है। राम प्रकाश और उसका बेटा यह देख कर हतप्रद रह गए , तुरंत उन्हें कुछ सूझा और वह अपने घर से अपनी बेटी की लाल चुनरी ले आए तथा १०० मीटर की दूरी पर बाजरे की डंडी से लाल झंडी बना कर रेलवे लाइन के दोनों तरफ़ लगा दी इन्होने पास ही में कुह्च भूसा भी जला दिया और आती हुई रेल को रोकने की कोशिश की ड्राइवर औरगार्डdएख और ट्रेन रोक ली । दोनों ने जब रामप्रकाश से पुछा तो उसने ट्रेक की तरफ़ इशारा करते हुए बताया की नट-बोल्ट खुल रहे हैं । इस पर ड्राइवर और गार्ड दोनों रह सहम गए । इस तरह राम प्रकाश और उसके बेटे ने एक बड़ी रेल दुर्घटना होने से रोकी ।

1 टिप्पणी:

  1. Ram Prakash ko mera salam! ese bahadur log hi desh ke sachhe sevak hai....sharm aana chhahiye unko jo railo ko jala dete hai!

    उत्तर देंहटाएं

समर्थक

ब्लॉग आर्काइव