मंगलवार, 6 दिसंबर 2011

                                                        इतिहास के आईने में 
तत्कालीन मुस्लिम इतिहासकार कैफ़ी खान ने लिखा कि -शिवाजी ने वास्तव में अपने अनुयायियों से कह रखा था कि वे किसी मस्जिद को चोट न पहुचाये किसी धार्मिक ग्रन्थ या औरत की बेज्जीती न करे ! जब कभी कुरान उनके हाथ में पड़ी, वे सम्मान के साथ उसे उठा लाते और अपने किसी मुसलमान मित्र को दे देते थे !
                     क्या आज की शिव सेना वाले छत्रपति शिवाजी से कुछ सीखेगे 
                                                                                                                             नरेन्द्र एम. चतुर्वेदी    

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

समर्थक

ब्लॉग आर्काइव