गुरुवार, 15 दिसंबर 2011

                             मथुरा सीट से उमा भारती का चुनाव लड़ना लगभग तय...?


मथुरा ! भारतीय जनता पार्टी ने मथुरा विधानसभा सीट पर आगामी चुनावों में उमा भारती को प्रत्याशी बनाने का मन बना लिया है.पार्टी सूत्रों के अनुसार मायावती के सामने तेज तर्रार पिछड़ी जाती का महिला नेतृत्व देने के लिए भाजपा ने उमा भारती को प्रोजेक्ट करने का निर्णय लिया है. आक्रामक हिंदुत्व की राजनीति के साथ पिछड़ी जातियों विशेषकर लोधी राजपूत समाज को जोड़े रखने के लिए भाजपा के पास उमाभारती ही कल्याण सिंह का बेहतर जबाब हो सकती थीं और भाजपा ने इस विकल्प का सटीक चयन किया है किन्तु पार्टी के इस निर्णय से स्थानीय नेतृत्व में हड़कंप मच गया है .वर्त्तमान कांग्रेसी विधायक को भी इससे कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ेगा .संभव है उमा भारती की प्रतिद्वंदिता से भाजपा मथुरा में अपना खाता फिर से  खोल पाने में सफल हो सके .उल्लेखनीय है की पिछली बार मथुरा की पांच में से एक भी  सीट पर भाजपा को सफलता नहीं मिली थी .उमाभारती के लिए उत्तर प्रदेश में लाँच करते वक्त भाजपा के लिए उनकी आक्रामक हिंदुत्व बालीछवि के अनुरूप सीट का चयन करना था इसलिए मथुरा सीट को उपयुक्त माना गया है .किन्तु भाजपा की यह शै स्थानीय नेताओं की भीतर घात के चलते मात में भी तब्दील हो सकती है क्योंकि टिकेट की आस में लाखों रुपये लुटा चुके नेताओं को पार्टी का यह निर्णय सुपाच्य हो ही नहीं सकता है .इधर साक्षी महाराज के अनुभव के बाद स्थानीय नेताओं के लिए बाहरी प्रत्याशी के  लिए जनता से वोट मांगना मुश्किल होगा.महामंडलेश्वर साक्षी को भाजपा ने राम लहर में मसीहा, महात्मा और न जाने कितनी महिमा के साथ मथुरा संसदीय सीट से जिता दिया परन्तु  बाद में वे असंत खलनायक  ही सिद्ध हुए थे .उमा भारती के लिए एक मुश्किल वैधानिक रूप से ये हो सकती है की वे उत्तर प्रदेश की किसी विधानसभा सीट की वोटर लिस्ट में संभवतः नहीं हें .कुल मिला कर उमा भारती कांगेर के प्रदीप माथुर के लिए चुनौती भी हो सकती हें तो मथुरा सीट उनके लिए खुद एक चुनौती बन सकती है 
.                                   --नरेंद्र एम् चतुर्वेदी प्रधान संपादक समय सापेक्ष -www.samaysapeksh.com 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

समर्थक

ब्लॉग आर्काइव