शनिवार, 2 जनवरी 2010

उप्र में दो ट्रेन दुर्घटनाएँ, 11 की मौत


लखनऊ/नई दिल्ली, शनिवार, 2 जनवरी २०१० उप्र में आज अल सुबह हुईं ट्रेनों के बीच टक्कर की अलग-अलग दो घटनाओं में 11 लोगों की मौत हो गई, जबकि 50 यात्री घायल हो गए। दोनों हादसों का कारण घना कोहरा बताया आ रहा है। हादसों के कारण 54 ट्रेनें देरी से चल रही हैं। पहली घटना में बिहार जा रही दिल्ली-सीतामढ़ी लिच्छवी एक्सप्रेस घने कोहरे के दौरान आज तड़के इटावा के निकट सरायभोपत स्टेशन पर पहले से खड़ी दिल्ली-इस्लामपुर मगध एक्सप्रेस से टकरा गई। सरायभोपत स्टेशन पर मगध एक्सप्रेस खड़ी थी। उसे पीछे आ रही लिच्छवी एक्सप्रेस ने टक्कर मार दी। घटना में घायल लिच्छवी एक्सप्रेस के चालक को बचा लिया गया है। अन्य हादसे में कानपुर के पनकी रेलवे स्टेशन से करीब दो किमी पहले प्रयागराज एक्सप्रेस को आज सुबह गोरखधाम एक्सप्रेस ने पीछे से टक्कर मार दी। इसमें दस लोगों की मौत हो गई, जबकि पचास घायल हो गए। प्रयागराज एक्सप्रेस की तीन बोगियाँ भी क्षतिग्रस्त हुई हैं। इलाहाबाद जोन के जनसंपर्क अधिकारी अमित मालवीय ने बताया दिल्ली आ रही प्रयागराज एक्सप्रेस पनकी से दो किमी पहले खड़ी थी और उसे पीछे से आ रही गोरखधाम एक्सप्रेस ने टक्कर मार दी। दोनों ट्रेनें पटना से नई दिल्ली जा रही थीं। दोनों घटनास्थलों पर राहत कार्य के लिए कानपुर से ट्रेन को रवाना किया गया है।देरी से चल रही हैं ये ट्रेनें : तूफान एक्सप्रेस, विक्रमशिला एक्सप्रेस, जनसाधारण एक्सप्रेस, गरीब रथ एक्सप्रेस, हावड़ा-राजधानी एक्सप्रेस, भुवनेश्वर-राजधानी एक्सप्रेस। ये सभी ट्रेनें चार-ग्यारह घंटे की देरी से चल रही हैं। प्रयागराज में थे मुरलीमनोहर जोशी : भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरलीमनोहर जोशी भी प्रयागराज एक्सप्रेस में सवार थे। हालाँकि वे पूरी तरह सुरक्षित हैं। 'आज तक' से बातचीत में उन्होंने बताया कि अल सुबह मैं प्रयागराज एक्सप्रेस से दिल्ली के लिए रवाना हुआ। इसी बीच पनकी स्टेशन पर हमारी ट्रेन आकर रुकी। अचानक झटका लगा। पूछने पर पता चला गोरखधाम एक्स. ने टक्कर मार दी है। हेल्पलाइन नंबर-कानपुर : 0512-2323016, 2323015पटना : 061-2213234दिल्ली : 011-23967332

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

समर्थक

ब्लॉग आर्काइव