रविवार, 20 दिसंबर 2009

गौरतलब: देशभर के 833 एनजीओ काली सूची में

नई दिल्ली, रविवार, 20 । दिसंबर ग्रामीण विकास मंत्रालय के अंतर्गत एक स्वायत्त इकाई ने धन का दुरुपयोग करने के मामले में 833 गैरसरकारी संस्थाओं (एनजीओ) एवं स्वैच्छिक संगठनों को काली सूची में डाल दिया है।मंत्रालय ने इस मुद्दे पर जानकारी ग्रामीण विकास संबंधी स्थाई समिति को दे दी है, जिसने गुरुवार को संसद में अनुदान की माँगों संबंधी पहली रिपोर्ट पेश की। समिति की अध्यक्ष सुमित्रा महाजन हैं।ग्रामीण विकास मंत्रालय के अंतर्गत काम करने वाली स्वतंत्र इकाई काउंसिल फॉर एडवांसमेंट ऑफ पीपल्स एक्शन एंड रूरल टेक्नोलॉजी (कापार्ट) ने नवंबर 2009 को 833 एनजीओ और स्वैच्छिक संगठनों को काली सूची में डाल दिया है।काली सूची में डाली जाने वाली संस्थाओं में सर्वाधिक आन्ध्रप्रदेश से हैं। इसके बाद बिहार और तमिलनाडु का स्थान है।समिति ने कहा कि मंत्रालय ने सूचना दी है कि धन के दुरुपयोग और अनियमितता के चलते इन एनजीओ और स्वैक्षिक संगठनों को काली सूची में डाला गया है।काली सूची में डाली गई संगठनों में से आन्ध्रप्रदेश से 192, बिहार से 125, तमिलनाडु से 83, कर्नाटक से 75, उत्तरप्रदेश से 72, राजस्थान से 42 और 35 केरल से हैं। (भाषा)

5 टिप्‍पणियां:

  1. स्वागत है ब्लाग की दुनिया में

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी टिप्पणियां दें

    कृपया वर्ड-वेरिफिकेशन हटा लीजिये
    वर्ड वेरीफिकेशन हटाने के लिए:
    डैशबोर्ड>सेटिंग्स>कमेन्टस>Show word verification for comments?>
    इसमें ’नो’ का विकल्प चुन लें..बस हो गया..कितना सरल है न हटाना
    और उतना ही मुश्किल-इसे भरना!! यकीन मानिये

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच पूंछिए तो यहां सब काला है

    उत्तर देंहटाएं
  4. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छी रचना बधाई। ब्लॉग जगत में स्वागत।

    उत्तर देंहटाएं

समर्थक

ब्लॉग आर्काइव